2012-2018 के बीच वन्यजीवों के अवैध शिकार के मामले में 9000 से अधिक लोग गिरफ्तार: पर्यावरण मंत्रालय


इन्द्र मोहन सिंह
नई दिल्ली। पर्यावरण मंत्रालय ने हाल ही में लोकसभा को जानकारी दी है कि 2012-2018 के दौरान देश भर में वन्यजीवों के अवैध शिकार के मामले में 9,000 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया। पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने निचले सदन में अवैध शिकार के मामलों में पकड़े गए लोगों की संख्या को लेकर पूछे गये एक सवाल का जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, राज्य के वन और पुलिस अधिकारियों से प्राप्त जानकारी के आधार पर वन्यजीव अपराध नियंत्रण बोर्ड (डब्ल्यूसीसीबी) के उपलब्ध रिकॉर्ड के अनुसार, 2012 से 2018 के बीच 9,253 लोग वन्यजीवों के अवैध शिकार के मामलों में गिरफ्तार किए गए हैं। राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए), जो बाघों और तेंदुओं का रिकॉर्ड रखता है, के अनुसार, 2012 और 2018 के बीच अवैध शिकार के 141 मामले सामने आए हैं, जबकि 84 मामलों में जब्ती की कार्रवाई की गई। आंकड़ों के मुताबिक, सबसे ज्यादा अवैध शिकार और जब्ती की घटनाएं मध्य प्रदेश में हुई। यहां क्रमशः 31 और 12 मामले दर्ज किए गए।


Categories: देश,पर्यटन

Leave A Reply

Your email address will not be published.