15 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने लड़की के अपहरण की एफआईआर दर्ज नही की


नई दिल्ली। उत्तरी जिले के थाना बुराड़ी के अंतर्गत झड़ौदा चौकी के अधीन संगम विहार निवासी अनिल पुत्र सूरजपाल ने पुलिस आयुक्त को लिखे एक शिकायती पत्र में कहा है उसकी नाबालिग बहन को कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया। उसकी बहन के अपहरण का मामला दर्ज कर पुलिस कार्रवाई करे। यह घटना 5 जून 2018 की है। पुलिस ने खबर लिखे जाने तक कोई भी मामला दर्ज नही किया है।
चौकी इंचार्ज, झड़ौदा से लेकर एसीपी, सिविल लाइन, उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त, पुलिस आयुक्त, दिल्ली पुलिस, चेयरमैन, दिल्ली महिला आयोग तथ उपराज्यपाल को लिखे शिकायती पत्र में पीड़ित अनिल पुत्र सूरजपाल निवासी गली नम्बर 5, संगम विहार, झड़ौदा ने कहा है कि मेरी छोटी बहन जिसका नाम कोमल उम्र लगभग 16 वर्ष है दिनांक 5 जून 2018 से गायब है। हमने अपने सभी रिश्तेदारों के यहां पूछताछ कर ली और उसे काफी ढूंढा और इस बाबत पीसीआर पर दिनांक 7 जून 2018 को तकरीबन 11.30 बजे कॉल कर पुलिस को सूचित भी किया था तथा चौकी इंचार्ज को भी सूचित किया गया था। पीड़ित ने अपनी बहन को काफी ढूंढा पर वह नहीं मिल सकी। रिश्तेदारों के यहां पूछताछ करने पर पता चला कि बहला फुसलाकर विक्रम तथा संदीप पुत्र मदन लाल निवासी 17/393, गली नम्बर 17, ब्लॉक 17, कल्याणपुरी, दिल्ली में कैद करके रखा गया है। उपरोक्त आरोपियों के साथ उनके रिश्तेदार विक्रम का साला सुरेन्द्र और उसका लड़का अर्जुन इन सबकी मिलीभगत है। पीड़ित जब आरोपियों के पता उपरोक्त पर पूछताछ करने के लिए गया तो आरोपियों ने उसकी बहिन से 2-3 बार फोन पर बात भी करवाई। बहन ने पीड़ित को बताया कि अरोपियों ने उसकी बहन को किडनेप कर यूपी में कहीं अज्ञात स्थान पर बंधक बनाया हुआ है। जब आरोपियों से बहन को रिहा करने के लिए कहा तो जवाब मिला कि हिम्मत है तो जाकर ले आ। पत्र के अंत में पीड़ित ने कहा कि मेरी बहन नाबालिग है। उसकी जान व आबरू खतरे मे हैं। पीड़ित ने यह भी कहा कि यदि पुलिस आरोपियों के मोबाइल नम्बरों की जांच करें तो सब कुछ स्पष्ट अवं आरोपी पकड़ में आ जायेंगे और मेरी बहन भी बरामद हो जाएगी।
झड़ौदा पुलिस चौकी इंचार्ज का कहना है कि तेरी बहन हो सकता है कि स्वयं ही चली गई हो। कुछ दिन में धक्के खाकर आ जायेगी। ज्यादा करेगा तो तेरी बहन की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर देता हूं। उसके लिए तू अपनी बहन की तीन फोटो बड़े साइज की लेकर आ जा। ताकि उनको दूरदर्शन तथा गुमशुदा तलाश केन्द्र में भेजा जा सके। पीड़ित ने अपनी बहन मुक्त कराने के लिए गुहार लगाई है। लेकिन अभी तक उसको कोई राहत नहीं मिल सकी है।


Categories: क्राइम न्यूज

Leave A Reply

Your email address will not be published.