विधायक संगम विहार विधानसभा से और कार्यलय है अम्बेडकर नगर विधानसभा क्षेत्र में


संगम विहार, रतिया मार्ग पर चलना हुआ दूभर
कार्यालय संवाददाता
नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली के संगम विहार विधानसभा के अंतर्गत संगम विहार निवासी नारकीय जीवन जीवन जीने पर मजबूर हैं। बरसात के मौसम में रतिया राम मार्ग पर जनता का चलन दूभर हो गया है। जगह-जगह नालियों का गंदा पानी भरा हुआ है। सड़क के दोनों ओर जो नालियां बनाई गईं हैं उनको भी ठेकेदार की मदद से आम आदमी पार्टी की टिकट से जीते क्षेत्रीय विधायक दिनेश मोहनिया के इशारे पर विरोधी पार्टियों के कार्यकर्ताओं के इर्द-गिर्द नालियों को नहीं बनने दिया है। जिसकी वजह से मुख्य मार्ग के साथ साथ गलियों में पानी भरा हुआ है। गन्दे पानी की बदबू और वहां पर पनप रहे मच्छरों की वजह से लोगों का रहना दूभर हो गया है। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली नगर निगम का मलेरिया विभाग के लोग गरीब लोगों का पानी जमा होने पर चालान काट रहे हैं।
संगम विहार निवासी एवं एंटी करप्शन फोरम के वार्ड 84 (एस) अध्यक्ष सचिन गुप्ता का कहना है कि उनकी कॉलोनी संगम विहार में पिछले साढ़े चार साल से कोई भी विकास कार्य नहीं हुआ है। सड़कों पर गंदा पानी जगह जगह भर हुआ है। स्कूल आते-जाते समय बच्चे गंदे पानी से होकर गुजरते है। जिसकी वजह से बच्चों को इंफेक्शन हो रहा है और बीमार पड़ रहे हैं।
संगम विहार, रतिया मार्ग निवासी सलौनी का कहना है कि गंदगी की वजह से हमारे ससुराल वाले हमी अपने मायके संगम विहार में नहीं आने देते हैं। वह अपने बीमार बाप को देखने के लिए आई हुई थी। क्षेत्रीय निवासी नीराज कुमार का कहना है कि मेरी शादी का रिश्ता तय हो गया था। लेकिन जब उसके ससुरालिये उसके घर आये तो उन्होंने टूटी सड़क और गंदगी की वजह से रिश्ता ही खत्म कर दिया।
सलीमुद्दीन का कहना है कि क्षेत्रीय विधायक दिनेश मोहनिया के कारण सड़के नहीं बनी है। और गंदी नालियों का पानी उसके घर मे घुस रहा। फलस्वरूप कभी भी उसका मकान धराशायी हो सकता है। उसके घर के आगे गली में गंदी नाली का पानी भरा हुआ जिसमें भयंकर मच्छरों के प्रकोप है। हैजा, चिकनगुनिया और खतरनाक बीमारी फैल सकती है।
आप विधायक दिनेश मोहनिया का संगम विहार विधानसभा में कोई कार्यालय भी नहीं है। चुनाव जीतने के बाद से विधायक महोदय ने अपना कार्यालय अंबेडकर नगर विधानसभा के अंदर बनाया है, जबकि अरविंद केजरीवाल ने प्रत्येक विधायक को क्षेत्र की जनता के समस्या और उसके निदान के लिए विधायकों को स्टेशन दे रखे हैं। प्रत्येक विधायक अपनी विधानसभा में कम से कम 2 घंटे प्रतिदिन अपने कार्यालय में बैठें। उसके बावजूद पिछले साढे 4 साल से दिनेश मोहनिया ने जनता से दूरी बनाकर रखी है। सूत्रों का कहना है कि दिनेश मोहनिया सांसद रमेश विधूडी से नजदीकी बनाये हुए। ताकि आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा से टिकट हासिल कर सकें। क्योंकि दिनेश मोहनिया को लगता है आम आदमी पार्टी उनको आगामी चुनाव में टिकट नहीं देगी। इसीलिए वह क्षेत्र की जनता की समस्याओं को हल करवाने के बजाए दूरी बनाए हुए हैं।


Categories: देश,राजनीति,स्वास्थ्य

Leave A Reply

Your email address will not be published.