बुराड़ी में अवैध निर्माण पर मोनिटरिंग कमेटी की पक्षपातपूर्ण कार्यवाही


मो.अनस सिद्दीकी

नई दिल्ली। मोनिटरिंग कमेटी के आदेश पर पिछले 20 दिनों से बुराड़ी निगम वार्ड में सिविल लाइन निगम जोन के बिल्डिंग विभाग का दस्ता लाल डोरा जमीन पर बने अवैध निर्माणों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही कर रहा है। जिससे बिल्डर और प्रॉपर्टी डीलरों में हड़कंप मचा हुआ है। निगम की अनदेखी से बड़े पैमाने पर निर्मित अवैध अपार्टमेंटों के खिलाफ कार्यवाही में भी निगम बिल्डिंग विभाग के अधिकारी पक्षपातपूर्ण तरीके से एक्शन कर रहे है।
मोनिटरिंग कमेटी के आदेशो का पालन करने में भी निगम अधिकारी *पिक एंड चूज की नीति* अपनाए हुये है।
बुराड़ी सहित कमालपुर, झड़ोदा और संत नगर निगम वार्ड में लाल डोरा और कृषि भूमि पर करीब 250 से अधिक अवैध अपार्टमेंटों का निर्माण किया जा रहा है। पिछले तीन सप्ताहों से बुराड़ी वार्ड स्थित लाल डोरा भूमि पर बने अवैध अपार्टमेंटों पर निगम द्वारा तोड़फोड़ की कार्यवाही की जा रही है। बुराड़ी वार्ड के शक्ति एन्क्लेव में कई अपार्टमेंटों पर निगम ने भारी कार्यवाही की है। बुराड़ी वार्ड के 60 फूटा स्वरूप नगर रोड पर खसरा नंबर-482 पर करीब 12 अपार्टमेंटों का निर्माण किया जा रहा था, यहाँ पर निगम ने लगातार एक सप्ताह पर तोड़फोड़ की। दो-दो जेसीबी मशीनों और 50 से अधिक निगम कर्मियों ने सभी अपार्टमेंटों को नेस्तनाबूद कर दिया है। परन्तु हैरानी की बात है कि यही से 300 मीटर की दुरी पर खसरा नंबर-547 पर बुराड़ी जोहड़ के निकट बन रहे चार अपार्टमेंटों के खिलाफ निगम ने कोई कार्यवाही नहीं की। बिल्डर एन.के.अग्रवाल द्वारा करीब 4000 गज़ पर लाल डोरा भूमि पर अवैध अपार्टमेंट बनाये जा रहे है। बिल्डर अग्रवाल मुख्य गेट पर ताला लगा कर गायब है। यहाँ पर निगम बिल्डिंग विभाग की पक्षपातपूर्ण कार्यवाही स्पष्ट दिखाई दे रही है। चर्चा है कि बिल्डर अग्रवाल निगम अधिकारियों को विकास शुल्क भेट कर सेटिंग करने में कामयाब हो गये है। इसलिये निगम को पक्षपातपूर्ण कार्यवाही करने के लिये मज़बूर होना पड़ा। इतनी ही नहीं राजनैतिक संरक्षक का दखल भी है। क्योकि नथूपुरा मुख्य मार्ग पर बीजेपी बुराड़ी मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र त्यागी का 700 गज़ का गोदाम पिछले चार महीने से बन रहा है। निगम को अभी तक दिखाई नहीं दिया। बता दे कि बुराड़ी से बीजेपी का निगम पार्षद है। देखना यह है कि क्या निगम खसरा नंबर 547 के अवैध अपार्टमेंटों और बीजेपी नेता के अवैध गोदाम पर कब हथौड़ा चलेगा। हैरानी की बात यह है कि खसरा नंबर-482 और 547 को निगम ने अवैध निर्माण करने के आरोप में नोटिस भेजा था, लेकिन पिक एन्ड चूज़ करते हुये खसरा नंबर 547 के नोटिस को निगम के ठन्डे बस्ते में डाल दिया।


Categories: क्राइम न्यूज,देश,राजनीति

Leave A Reply

Your email address will not be published.