डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव की तैयारियों पर मुख्यमंत्री केजरीवाल ने की समीक्षा


मो. अनस सिद्दीकी
नई दिल्ली। मानसून आने से पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसी बीमारियों से बचाव की तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। बैठक में मंत्री सत्येंद्र जैन, गोपाल राय, इमरान हुसैन सहित सभी संबंधित विभागों के प्रतिनिधि मौजूद रहे।
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी बारिश का मौसम आने वाला है। ऐसे में डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसी बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है। दिल्ली सरकार इस समस्या ने निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2015 में 15 हजार डेंगू के मामले सामने आए थे, जबकि वर्ष 2018 में 2700 मामले दर्ज हुए। दिल्ली सरकार इस वर्ष इस आंकड़े को और कम करने की कोशिश करेगी।
तैयारियों का जायजा लेने के बाद मुख्यमंत्री ने जल जनित बीमारियों से बचाव के लिए दिल्ली में काम कर रही टीम की तारीफ कहते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में हमने बहुत अच्छा काम किया है। डेंगू, चिकनगुनिया के मामलों में आई कमी से ये बात बिलकुल साफ हो जाती है।
मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि आने वाले महीनों में इस पूरी टीम को और ज्यादा मेहनत करने की जरूरत होगी क्योंकि अगले चार महीने दिल्लीवालों की सेहत के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। पिछले साल की तुलना में हमें हालात और बेहतर करना है। साथ ही डेंगू, चिकनगुनिया की मामलों में और कमी लाने की जरूरत है। हम सबको मिलकर लड़ना है। दिल्ली के लिए हम सबको अपना बेहतर प्रदर्शन करने की जरूरत है। मुझे पूरा विश्वास है कि इस साल डेंगू, चिकनगुनिया के मामलों में हम और कमी लाने में कामयाब होंगे। मुख्यमंत्री ने बारिश के मौसम में और उसके बाद जल जनित बीमारियों के नियंत्रण के लिए बचाव और जागरूकता पर विशेष जोर दिया।
दिल्ली सरकार डेंगू-चिकनगुनिया के मामलों में इस शहर की जनता की भागीदारी से मामलों में पिछले चार साल के दौरान काफी कमी लाई है। विभिन्न आरडब्ल्यूए और स्कूली बच्चों ने एडिज मच्छर के साफ पानी में पनपने की रोकथाम के लिए ब्रांड एंबेसडर के रूप में काम किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनभागीदारी से इन बीमारियों को रोकने के लिए इस साल भी प्रभावी कदम उठाए जाएंगे।
बैठक में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि जल जनित बीमारियों के नियंत्रण के मामले में जागरूकता और बचाव कार्यों की निगरानी सबसे अहम है। लोगों को जागरूक करने के लिए जरूरी मैटेरियल हर व्यक्ति तक पहुंचना बहुत जरूरी है।
मजबूत और प्रभावी निगरानी पर जोर देते हुए जैन ने कहा कि हमारा रेस्पॉन्स बहुत तेज होना चाहिए। सभी नगर निगमों से मेरा अनुरोध है कि वे अपना बेहतर प्रदर्शन करें। स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य मंत्रालय को अस्पतालों की तैयारी से संबंधित टाइम-टेबल लागू करने का निर्देश दिया। वार्षिक आंकड़े बताते हैं कि प्रभावी बचाव और नियंत्रण संबंधी उपायों के चलते दिल्ली में पिछले तीन साल के दौरान डेंगू-चिकनगुनिया के मामलों में कमी आई है।


Categories: देश,राजनीति,लेख,स्वास्थ्य

Leave A Reply

Your email address will not be published.