टूटी सड़कें गंदे नाले के पानी के बीच से गुजरने पर मजबूर हैं स्कूल के बच्चे


 विधायक को एंटी करप्शन फोरम ने दी चेतावनी
कार्यालय संवाददाता
नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली के संगम विहार विधानसभा के अंतर्गत संगम विहार कॉलोनी में यूं तो किसी चीज की कमी नहीं है और तमाम नामचीन दुकानें और खानपान का सामान उपलब्ध है। यदि नहीं है कुछ तो वह है मूलभूत सुविधाएं। इस बारे में एंटी करप्शन फोरम के राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्ण गोपाल ने कहा है कि संगम विहार विधानसभा से विधायक दिनेश मोहनिया पिछले साढे 4 सालों से अपने क्षेत्र से लापता हैं। इस बाबत इलाके के लोगों ने विधायक की गुमशुदगी के पोस्टर भी दीवारों पर चस्पा किए हैं। लेकिन विधायक दिनेश मोहनिया है कि उनके कान पर जूं तक नहीं रेंगती। बरसात के मौसम में जहां टूटी सड़कों पर चलना मुहाल है, वही टूटी नालियां और उन में बहता गंदा पानी भी सड़कों पर बह रहा है। इस गंदे पानी के बीच से होकर स्कूल के मासूम बच्चे और बच्चियों को गुजारना पड़ता है। कई बार तो यह बच्चे खराब सड़क के कारण गंदे पानी में गिर जाते हैं और उसी गंदे और भीगे के कपड़े पहन कर स्कूल जाने पर मजबूर होते हैं। जिसकी वजह से इन बच्चों को संक्रमण की बीमारियों का शिकार होना पड़ रहा है और यह बच्चे स्कूल से ज्यादा अस्पताल की हाजिरी लगा रहे हैं। इलाके के लोगों का कहना है कि संगम विहार एशिया की सबसे बड़ी कॉलोनी है। इस कॉलोनी में ढाई लाख से ज्यादा वोटर हैं।
उसके बावजूद दिनेश मोहनिया इस ओर ध्यान नहीं देते। हालांकि दिनेश मोहनिया काफी विवादित विधायक हैं। उन पर महिलाओं के साथ बदतमीजी करने और मारपीट के इल्जाम तो लगते ही रहे हैं। लेकिन जब से वह दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष हुए हैं, उसके बाद से वह अपने क्षेत्र से गायब हैं। इतना ही नहीं विधायक दिनेश मोहनिया अपनी विधानसभा को छोड़कर अंबेडकर नगर क्षेत्र में रहते हैं और वहीं पर उन्होंने अपना कार्यालय बनाया हुआ है जबकि आम आदमी पार्टी मुखिया एवं दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने तमाम विधायकों के लिए उनके क्षेत्रों में स्टेशन बना कर दिए हुए हैं। ताकि विधायक अपने-अपने क्षेत्रों में प्रतिदिन दो घन्टे का समय व्यतीत करें और जनता की समस्याओं का निवारण करें। लेकिन काम न करने की आदत के चलते विधायक दिनेश मोहनिया अपने क्षेत्र में नहीं जाते हैं। दिनेश मोहनिया अपने क्षेत्र की जनता को मूलभूत सुविधाएं तो दिलवा नहीं पा रहे है और बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं। गलियों में गेट लगवाने, वाईफाई और दिल्ली स्तर की बातें करके जनता को गुमराह कर रहें हैं।
संगम विहार के लोगों में विधायक दिनेश मोहनिया के प्रति काफी रोष है। दिल्ली सरकार के हॉस्पिटलों में पहले से काफी भीड़ है। अब यह गरीब बीमार होते बच्चे इन सरकारी हॉस्पिटलों में इलाज भी नहीं करवा पा रहे हैं। बच्चों का कहना है कि उनकी परीक्षाएं चल रही है। जिसकी वजह से वह गंदे और सड़ान्ध वाले पानी का सामना स्कूल आते-जाते वक्त करना पड़ रहा है।
एन्टी करप्शन फोरम के राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्ण गोपाल ने विधायक दिनेश मोहनिया को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि विधायक ने क्षेत्र की जनता की समस्याओं का निवारण नहीं किया तो जल्द ही वह इसके विरुद्ध मुहिम चलाएंगे और कानूनी प्रक्रिया को अपनाते हुए अदालत की शरण लेंगे।

Categories: देश,शिक्षा,स्वास्थ्य

Leave A Reply

Your email address will not be published.