अवैध हथियारों की तस्करी के दो आरोपित गिरफ्तार


अपराध संवाददाता
नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अवैध हथियार बनाकर उनकी तस्करी करने वाले गैंग के दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों में पवन सिंह और उसका साथी चंदर सिंह उर्फ चंदन सिंह उर्फ सतनाम सिंह शामिल है। पुलिस ने इनके पास से 30 पिस्टल बरामद की है। स्पेशल सेल की टीम पुलिस रिमांड पर लेकर आरोपितों से पूछताछ कर रही है।
स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त मनीषी चंद्रा ने बताया कि मुख्य आरोपित पवन ने पूछताछ में बताया है कि वह करीब 10 साल से हथियार बनाकर दिल्ली-एनसीआर, यूपी, हरियाणा, मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों में सप्लाई करता रहा है। मार्च में भी पुलिस ने दो हथियार तस्करों अमरीकन और शीतल सिंह को पकड़ा था और उनके पास से 52 पिस्टल बरामद हुई थी। तब पूछताछ में पता चला था कि हथियारों को मध्य प्रदेश के धार से पवन सिंह लाता है। पवन खुद हथियार बनाता है। उसके बाद से पवन की तलाश की जा रही थी। आखिरकार स्पेशल सेल की टीम को सफलता मिली। उसने मंगलवार को एक सूचना के आधार पर झील वाला पार्क, रोहिणी सेक्टर-3 से मुख्य आरोपित पवन और उसके एक साथी चंदन को गिरफ्तार कर लिया। दोनों के पास से 30 पिस्टल .32 बोर की बरामद हुई है।
आरोपित पवन और चंदन का कहना है कि धार मध्य प्रदेश में बड़ी सं या में लोग अवैध हथियार बनाना जानते हैं। उनकी कई पीढियां इसी काम में लगी हैं। पवन का परिवार करीब 80 साल से यह काम करता आ रहा है। वह खुद पिछले 10 साल से अवैध हथियार बनाता रहा है। उसके खिलाफ मध्य प्रदेश में अवैध हथियार के पांच मामले दर्ज हैं, जबकि चंदन भी कई मामलों में शामिल रहा है। आरोपित पुलिस से बचने के लिए गांव के पास जंगल में अस्थाई निवास बनाकर हथियार बनाते हैं। अब तक ये दोनों सैंकड़ों हथियार बनाकर देशभर में सप्लाई कर चुके हैं।
पुलिस की पूछताछ में आरोपित चौंकाने वाला खुलासा किया है। वह लोहे के कबाड़, साइकिल के फ्रेम और बड़ी गाडियों के टायर से निकलने वाले तार से स्प्रिंग बनाकर .32 बोर की पिस्टल तैयार करता था। एक पिस्टल तैयार करने में उसे करीब 7000 हजार रुपये की लागत आती थी, जबकि 25 से 30 हजार रुपये की बेच देता था। पुलिस इन दोनों आरोपितों को रिमांड पर लेकर गहन पूछताछ कर रही है।


Categories: क्राइम न्यूज

Leave A Reply

Your email address will not be published.